दिल पे ज़ख़्म Dil Pe Zakhm Lyrics in Hindi – Jubin Nautiyal

Dil Pe Zakhm Lyrics in Hindi, this song is sung by Jubin Nautiyal, and the music is given by Rochak Kohli. Dil Pe Zakhm Lyrics is written by Manoj Muntashir.

Dil Pe Zakhm Song Hindi Lyrics

हँसता हुआ ये चेहरा बस नज़र का धोखा है
तुमको क्या ख़बर कैसे आंसुओं को रोका है
ओ तुमको क्या ख़बर कितना मैं रात से डरता हूं
सौ दर्द जाग उठते हैं जब ज़माना सोता है
हां तुमपे उंगलियां ना उठें इसलिये ग़म उठाते हैं

दिल पे ज़ख़्म खाते हैं…
दिल पे ज़ख़्म खाते हैं और मुस्कुराते हैं
दिल पे ज़ख़्म खाते हैं और मुस्कुराते हैं
क्या बतायें सीनें में किस क़दर दरारें हैं
हम हैं जो वो शीशों को टूटना सिखाते हैं
दिल पे ज़ख़्म खाते हैं…

लोग हमसे कहते हैं लाल क्यूं हैं ये आँखें
कुछ नशा किया है या रात सोये थे कुछ कम
लोग हमसे कहते हैं लाल क्यूं हैं ये आँखें
कुछ नशा किया है या रात सोये थे कुछ कम
क्या बतायें लोगों को कौन है जो समझेगा
रात रोने का दिल था फ़िर भी रो ना पाये हम
दस्तकें नहीं देते हम तेरे कभी दर पे

तेरी गलियों से हम यूँहीं लौट आते हैं
दिल पे ज़ख़्म खाते हैं

कुछ समझ ना आये
कुछ समझ ना आये हम चैन कैसे पाये
बारिशें जो साथ में गुज़री भूल कैसे जायें
कैसे छोड़ दे आख़िर तुझको याद करना
तू जिये तेरी ख़ातिर अब है क़ुबूल मरना

तेरे ख़त जलाना ना सके इसलिये दिल जलाते हैं
दिल पे ज़ख़्म खाते हैं और मुस्कुराते हैं
हम हैं जो वो शीशों को टूटना सिखाते हैं

Song Details of Dil Pe Zakhm Lyrics

Singer: Jubin Nautiyal
Music: Rochak Kohli
Lyrics: Manoj Muntashir
Cast: Gurmeet Choudhary , Arjun Bijlani & Kashika Kapoor
Music Label: T-Series

Music video of the song Dil Pe Zakhm

I hope you will like the Dil Pe Zakhm Lyrics in Hindi given above. I have tried my best to write good friends, if there is any mistake then please comment.

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *